Wednesday, 2 March 2011

शिखा वार्श्नेय ABBS की अध्यक्ष एवं इंदू पुरी सचिव निर्वाचित--बधाईयाँ

ABBS की अध्यक्षा शिखा जी पद एवं गोपनीयता की शपथ लेते हुए
महाशिवरात्रि पर्व पर कई घंटों की चैट पर मशक्कत के बाद यह तय हुआ कि हिन्दी चिट्ठाकारी के विकास के लिए एक अखिल ब्रह्माण्ड स्तरीय संगठन की निहायत ही आवश्यकता है। चैटाधिकारियों ने सर्व सम्मति लंदन की यशस्वी चिट्ठाकार शिखा वार्श्नेय को अध्यक्ष एवं चित्तौड़गढ की धुंरधर बज्जकार एवं चिट्ठाकार इंदू पुरी को सचिव चुना। शीघ्र ही समस्त कार्यकारिणी की सूची प्रकाशित की जाएगी।
ABBS की सचिव इंदू पुरी चित्तौड़ से
 
अखिल ब्रह्माण्ड ब्लॉगर संगठन के माध्यम से हिन्दी ब्लॉगिंग के विकास के लिए पुरजोर प्रयास किया जाएगा।

43 comments:

  1. अब हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग का पथ प्रशस्‍त हो गया और इसके विकास में हमें कोई संदेह नहीं रहा.

    ReplyDelete
  2. शिखा वार्श्नेय ABBS की अध्यक्ष एवं इंदू पुरी सचिव निर्वाचित होने पर बधाई.....असीम शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  3. बताया जाता है कि मंगल ग्रह से भी कुछ सिग्‍नल मिल रहे हैं, इस खबर पर बधाई संदेश तो नहीं.

    ReplyDelete
  4. हम एलियन्स का भी ध्यान रखा जाय.... इधर धरती वालों का वर्चस्व ज़्यादा बढ़ गया है

    ReplyDelete
  5. जय हिन्दी ...जय भारत

    ReplyDelete
  6. बधाइयाँ बधाइयाँ... "मंगल" कामनाएँ

    ReplyDelete
  7. हिन्दी ब्लॉगिंग की विकास दिशा में यह प्रयास मील का पत्थर साबित होगा।

    शिखा जी एवं इंदु जी शुभकामनाएं एवं बधाई।

    ReplyDelete
  8. जो कोई तोकों काँटा बोवे ताहि बोउ तू भाला
    वो भी साला क्या समझेग पड़ा किसी से पाला
    बोलो हई रे हई रे हई रे
    जोगिरा सारा रारा रारा

    ReplyDelete
  9. शिखा जी एवं इंदु जी शुभकामनाएं एवं बधाई।

    ReplyDelete
  10. थेंक्स .शिखा जी को और इंदु पुरी को ....बधाई.
    हा हा हा 'ऐसीच है वो तो
    हिंदी ब्लोगिंग के लिए जो भी संभव हुआ करूंगी.(असंभव' शब्द मेरे शब्दकोष में नही लिखा है)
    ब्लोगिंग मेरा शौक नही मन को सुकून देने,आत्मीय सुख पाने का जरिया है.
    और ब्लॉग जगत मेरा एक परिवार है,चाहती हूँ हिंदी ब्लोगिंग उस ऊंचाई पर पहुंचे जहाँ कभी लिखित साहित्य 'था'.

    ReplyDelete
  11. सभी पदाधिकारियों को बधाइयाँ और शुभ कामनाएँ

    ReplyDelete
  12. शिखा वार्श्नेय ABBS की अध्यक्ष एवं इंदू पुरी सचिव निर्वाचित होने पर बधाई...

    अब हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग का के विकास में कोई संदेह नहीं रहा

    ReplyDelete
  13. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  14. यह तो बहुत ही खुशी की बात हॆ कि इन संगठनों के माध्यम से विश्व के ब्लागर्स एकत्रित तो हो रहे हॆ.शिखा जी व इन्दु जी को विशेष रुप से बंधाई.अन्य सभी मित्रों को भी शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  15. जी स्वागत है

    ReplyDelete
  16. दो स्वनामधन्य ब्लोग्गर इस ब्रम्हांड संगठन को अप्रतिम ऊँचाई प्रदान करेंगे ऐसा मेरा विश्वास है .

    ReplyDelete
  17. अब इस ठाकुर को अध्यक्ष बना ही दिया गया है तो ये अपने दोनों लूले हाथों को जोड़कर प्रवक्ता जय,वीरू से गुजारिश करता है कि गब्बर ( इन्दुपुरी जी ) के संरक्षण में इस संगठन का कार्य आरम्भ किया जाये और सभी रामगढ (हिंदी ब्लॉग जगत )वासियों से विनर्म निवेदन है कि इस शुभ कार्य मे हाथ बटायें.इस होली पर इस रामगढ में एक और हिट शोले बनाने में अपना योगदान दें..
    बहुत बहुत धन्यबाद आप सबका.

    ReplyDelete
  18. वीरांगनाओं के हाँथ में ब्लागिंग की कमान ,अत्यंत सराहनीय

    ReplyDelete
  19. शिखा जी एवं इंदु जी शुभकामनाएं एवं बधाई।

    ReplyDelete
  20. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (2-3-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  21. @शिखा वार्ष्णय
    हा हा हा
    मुझे गब्बरसिंह बना दिया? दुष्ट! इस बार तो फिर गब्बर नाचेगा होली पर और.....बसंती देखेगी.पर....कांच की गिलास,बोतल्स तोड़ कर फैंकना मना है.गब्बर मधुमेह रोगी है.पैर में कांच लग गया तो रामगढ़ का क्या होगा?
    हा हा हा
    पर अच्छा लगा आपका ये अंदाज़ मुझे.
    प्यार

    ReplyDelete
  22. अरे इंदु जी ! आपके जैसे प्यारे गब्बर के रहते यहाँ किसी और की जुर्रत जो ये रूतबा संभाले???अब तो ये शोले आपके ही कन्धों पर टिकी है.हमें तो वैसे भी गोपनीयता की शपथ खिला दी गई है :) :).
    प्यार के लिए आभार :)

    ReplyDelete
  23. नव पदाधिकारियों को बधाई एवं शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  24. शुभकामनाएं हमारी भी स्वीकार करें,पदाधिकारी और मेरे अखिल ब्रह्माण्ड मित्रों!! बधाईयाँ!!

    ReplyDelete
  25. अखिल ब्रह्मांड .............हां अब ठीक है ....टोटले लपेट लिए आप ..दु्न्नो सेनापति को हमारा भी सलाम है जी

    ReplyDelete
  26. वाह ! मुबारक हो जी !

    ReplyDelete
  27. शिखा जी एवं इंदु जी शुभकामनाएं एवं बधाई।

    ReplyDelete
  28. पदाधिकारियों को पूरे एक ट्रक भांग वाली ठंडाई की बराबर बधाईयां भेज रहा हुं, कबूल फ़रमाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  29. वाह ! मुबारक हो जी|

    महाशिवरात्री की हार्दिक शुभकामनाएँ|

    ReplyDelete
  30. क्या जलवे हैं हिंदी ब्लॉगिंग के भी ...ब्रह्माण्ड सुंदरियों शिखाजी और इन्दुपुरी जी बहुत बधाई!

    ReplyDelete
  31. ब्रह्मण्ड स्तर का संगठन ज़रूरी भी था. और इसकी कमान शिखा जैसी जुझारू पत्रकार को सौप कर अच्छा किया गया. इंदु जी भी है. घर से ले कर ब्रह्मंड तक महिलाओं की ही चल रही है. इसलिए अब उम्मीद की जानी चाहिए की स्त्री-शक्ति ब्रह्मांड को भी राईट कर देंगी. ब्लागिंग तो वैश्विक है ही. अब उसके ब्रह्माण्ड तक जाने का सही समय आ गया है. जय ब्लागिंग...

    ReplyDelete
  32. अध्यक्षा, शिखा वार्श्नेय जी एवं सचिवा, इंदू पुरी जी को बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनायें और बधाईयाँ |

    ReplyDelete
  33. बधाई और शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  34. आप दोनो को हमारी हार्दिक बधाई । आशा करती हूँ कि इस ब्लाग के माध्यम से हिन्दी ब्लागिंग को विश्व स्तर पर एक नयी पहचान मिलेगी ।
    जहाँ अच्छे लोग अच्छे विचार और उद्देश्य से एक साथ मिलजुल कर कार्य करें उन्हे ईश्वर भी अपनी आशीष स्वयं ही देते है ।

    ReplyDelete
  35. शिखा जी और इंदु जी को बधाई हमारा पुरज़ोर सहयोग और समर्थन आपकेो साथ है ।

    ReplyDelete
  36. शिखा जी और इंदु जी दोनों को बधाई. शिखा जी को मैं थोडा जानता हूँ इसलिए उनको यहाँ देख के अच्छा लगा.

    ReplyDelete
  37. bahut bahut badhai or subhakamnaye

    ReplyDelete
  38. पता नहीं दाल में काला हॆ या दाल ही काली हॆ?
    .......मामला....कुछ..हॆ.

    ReplyDelete
  39. मै जब गोरखपुर से गुजरी तो एक महिला को टैम्पो के स्टारिंग पकड़ टैम्पो चलते देखा....

    मै अलीगंज के एक पट्रोल पम्प पर एक लड़की को पट्रोल भरते देखा तो अवाक् रह गई..........

    मैने एक लड़की को सब्जी की दुकान पर बैठे देखा और पूछा तुम पड़ाई क्यों नहीं करती सब्जी क्यों बेच रही हो ............. उसने टपक से उत्तर दिया "दीदी मेरे पिता जी नहीं है और हम ६ भाई बहन है मै सबसे बड़ी हूँ अगर मै और मेरी माँ काम नहीं करेगी तो हम खाएगे क्या .........................

    उसकी दुकान इस पुरुष प्रधान समाज में करारा जवाब है ..........................

    मुझे लगता है यह महिलाए असलियत में सच्ची और असली विरागनाये है क्योंकि संसार की जंग में यह खुद की सेना और खुद की सिपाही है............. यह अपनी जंग खुद लड़ रही है और शयद लडती रहेगी

    मै जानती हूँ एक दिन यह अपनी लड़ाई जीतेगी..................

    ...............................................कुछ लोग चापलूसी में जबरिया उन्हें विरागना बना रहे जो चारो तरफ पुरुष मानसिकता कि तहेत सामाजिक संरक्षण में जी रही है.... और नेट पर आकर ब्लॉग जगत में टू पु - टू पु करती रहती है यह कैसे विरागनाए????????????????

    इनका महिलओ का तो अल्ला मालिक ..........................................................:)>

    ReplyDelete

ब्लॉग पोस्ट से संबंधित टिप्पणियों का सदा स्वागत है।
अनर्गल प्रचारार्थ टिप्पणियाँ ब्लॉग पर नहीं रखी जाएगीं।